Chalukya Vansh Ki Rajdhani Kya Hai? [ऐहोल] – 2022

Chalukya Vansh Ki Rajdhani Kya Hai

क्या अपको नहीं मालूम Chalukya Vansh Ki Rajdhani Kya Hai और आप गूगल पर Research करके परेशान हो, तो मेरे इस लेख को ध्यान से पढ़िए।

हमारे इस लेख को पढ़ने के बाद हमे आशा हैं की आपको आपके सवाल “चालुक्य वंश की राजधानी क्या है?” की जानकारी जरूर पराप्त होगी।

जैसा की आप Google पर Research कर के परेशान हो की आखिर “चालुक्य वंश की राजधानी क्या हैं” Same इसी तरह मैंने भी ढूढने की कोसिस की लेकिन मुझे भी इसका सही जवाब नही मिला।

काफी Research करने के बाद मुझे पता चला की “सही उत्तर ऐहोल हैं”भारत के कर्नाटक राज्य में ऐहोल को भारतीय वास्तुकला का उद्गम कहा जाता है। यह चालुक्यों की पहली राजधानी थी, जहां उन्होंने छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व के कई मंदिरों का निर्माण किया था। बाद में 543 में पुलकेशिन 1 द्वारा राजधानी को बादामी में बदल दिया गया।

प्रश्न: Chalukya Vansh Ki Rajdhani Kya Hai
उत्तर: चालुक्य वंश की राजधानी “ऐहोल” AIHOL हैं।

Chalukya Vansh Ki Rajdhani Kya Hai

क्या चालुक्य वंश की राजधानी बादामी थी?

चालुक्यों की राजधानी वातापी थी, जो कर्नाटक के बीजापुर जिले में स्थित थी। इसे आधनिक समय में बादामी के नाम से जाना जाता है। चालुक्यों का प्रथम ऐतिहासिक शासक जयसिंह था।

चालुक्य वंश एक भारतीय शाही राजवंश था जिसने 6वीं और 12वीं शताब्दी के बीच दक्षिणी और मध्य भारत के बड़े हिस्से पर शासन किया। सौराष्ट्र में चालुक्यों के शासन को आभीरों द्वारा समाप्त कर दिया गया था।

दसवीं शताब्दी की तीसरी तिमाही। इस अवधि के दौरान, उन्होंने तीन संबंधित अभी तक व्यक्तिगत राजवंशों के रूप में शासन किया। सबसे पहला राजवंश, जिसे “बादामी चालुक्य” के रूप में जाना जाता है, ने 6 वीं शताब्दी के मध्य से वातापी (आधुनिक बादामी) पर शासन किया।

Rate this post

Leave a Comment